Dard Bhari Shayari | 20+ लेटेस्ट दर्द भरे अल्फ़ाज़

दर्द भरे अल्फ़ाज़ : आजकल तो प्यार में खेल सा हो गया हे, दिल जुड़कर बेवफाई कर देते हे। जब एक दूसरे पर विश्वाश नहीं रहता तभी नजदीकियां दूरियों में बदल जाती हे.
Dard Bhari Shayari : प्यार में एक दूसरे पर विश्वाश होना आवश्यक हे उसी पर दोनों जुड़े हुए होते हे. अगर दो प्यार करने वालो के बिच गलतफहमी हो जाये तो उसे सुलझाकर आगे बढ़ना चाहिए। अगर ऐसा नहीं करते तो जिंदगी भर का साथ देने का वडा देने वाले टूट कर बिखर जाता हे. जब प्यार करने वालो के बिच तीसरा व्यक्ति जुड़ जाता हे तो दोनों के बिच बहस हो जाती हे और उस मुकाम पर पहोच जाता हे जो सोचा भी नहीं होता।

ऐसे ही दर्द भरी शायरी लेके आये हे जो आपके दिल को छु जाये पेश हे दर्द भरी शायरियाँ जो आप व्हाट्सप्प, फेसबुक, टवीटर और अन्य सोसिअल मिडिया पर शेयर कर सकते हो….

Dard Bhari Shayari दर्द भरे अल्फ़ाज़ : heartbeatpain

चलो आज किस्सा तमाम ही हो गया,
जो पहले अपना था आज अनजान हो गया।

जीना आसान नही है तेरे बिना,
तुजो कह दे तो मोत को गले लगा लू में।
Dard Bhari Shayari

इतना भी कोई किसीको ना चाहे,
की जीना मुहाल हो जाये,
एक रूठे तो दूजे की मौत हो खुदा ऐसा कमाल हो जाये।

में जानता हूं कि वो फरेब कर रहा है,
पर क्या करूँ दिल मुद्दतो से उसी पर मर रहा है।
Dard Bhari Shayari

शिद्दते आशिक़ी मुहाल कर गई,
उसकी एक नजर कमाल कर गई।

दिल्लगी नही आती मुजे यही कमी है,
मेरे दिलको इंतेजार है उसका और आँखों मे नमी सी है।
Dard Bhari Shayari

में चाहकर भी उससे नफरत नही कर सकता,
वो मोहबत है मेरी कोई फरेब नही।

बड़ी मुद्दतो के बाद भूल पाए थे तुमको,
बरसो के बाद फिरसे तस्वीर सामने आ गई।

में मर ही जाता अगर तुम ना मिलते,
साँसे अटक सी गईथी तेरे इंतेजार में।
Dard Bhari Shayari

Pyar Me Dhokha Story Hindi Me : Watch Now….

लाख कोशीसो पर भी में दूर नही रह पाता,
मोहब्बत है या इबादत हो गई तुमसे।

इल्म नही था इश्क़ हो जाएगा तुमसे,
जान जाती है तेरे रुठ जाने के बाद।

दो बूंद बारिश क्या गिरी,
सबको लगा कोई दिलजला आशिक़ रो रहा है।

Dard-e-dil ke alfaj jo dil ko chhu jaye : heartbeatpain

शायरी एक नशा है दिल का हाल सुनाने को,
तुम क्या जानो आंखों से पी थी कभी उस जालिम के।

मुड़ की बात है कलम युही नही चलती,
याद आते हो तो गजल बन जाती है।

तुम जमाने मे जाओ मगर याद रखना,
तुमको सुकून हमारे पास ही आएगा।

वो जाना चाहता है छोड़कर मुझको,
कैसे जीऊ में उसके बिना कोई बताए उसे।

शोर है दिलो दिमाग मे और खामोशियों ने घेरा है,
हर नजर तुज पर ही रुकी हुई है,
इंतेजार में ये वक़्त भी ठहरा हुआ है।
Dard Bhari Shayari

तलाश रही हु खुदको खुद में,
हर लम्हे में तुम्ही तुम मिले मुजे।

ना जाने ये इश्क़ है या जुनून है,
ना चैन है ना सुकुन है।

मुसाफ़िर सी है ज़िंदगी,
ना रुकती है ना चलती है,
कभी संभलती है कभी फिसलती है,
यादों का कारवां ना जाने,
कहा ले जाता है मुझे…
तुम्हारे खयालो में।

सोचा नही था की इस मोड़ पर आ जाएंगे,
ना भूल सकते है ना कभी तुमको भूल पाएंगे,
साँसों की डोरी बँधी है तेरे नाम से,
साथ जियेंगे तेरे साथ ही मर जायेंगे।

मुद्दतो से एक ही दुआ मांगी है,
खुदा को मंजुर ना हुई या मोहब्बत रास ना आई उसे।

सुनो,
कभी इंतेजार किया है क्या मेरी तरह,
कहो कभी प्यार किया है तुमने मेरी तरह,
कभी तड़प कर देखना की मोहब्बत किसे कहते है।

वो जो कहते थे नही जी सकते तुम्हारे बिना,
हर मोशम की तरह उसने मिज़ाज भरे हुए है।

दो कदम का फासला तुमसे मिटाया ना गया,
तुमतो ज़िंदगी साथ गुजारने की बात करते थे।

आप हमारे फेसबुक पेज को भी फॉलो कर सकते हो – क्लीक : Facebook

Scroll to Top