Happy Makar Sankranti 2023 | मकर संक्रांति शुभकामना संदेश

Makar Sankranti 2023 : भारतीय संस्कृति में हर दिन एक त्यौहार के रूप में होता है, आज ऐसे ही एक त्यौहार के बारेमें जानते है. साल के पहले ही महीने में यानी जनवरी के १४ तारीख को मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है. इसे उत्तरायण के रूप में भी जाना जाता है.

Makar Sankranti 2023

Makar Sankranti 2023 | उत्तरायण क्या है?

उत्तरायण यानी भारतीय संस्कृति के पंचांग और विज्ञान के अनुसार सूर्य का परिभ्रमण दो हिसों में बाटा गया है. एक दक्षिणायन और एक उत्तरायण। जब सूर्य दक्षिण की भ्रमण करता है तो उसे दक्षिणायन और उत्तर की और भ्रमण तो उत्तरायण कहा जाता है. हलाकि आंशिक तौर पर दक्षिणायन २१ जून के बाद और उत्तरायण २२ दिसम्बर के बाद का समय निचित किया गया है.

मकर संक्रांति क्या हे? | What Is Makar Sankranti?

भारत के पंचांग के अनुसार १३ से १४ जनवरी के बिच में सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है. इसीलिए इसे मकर संक्रांति के रूप में जाना जाता है. भारत में इसे त्यौहार के रूप में मनाया जाता है, और ये त्यौहार ठंड की मौसम में आता है पौस्टिक आहार खाने की परंपरा भी रही है. तिल और गुड़ के लड्डू बनाते है, मिठाईया बनाते है और सब मिलकर साथ में खाते है. गुजरात में इसे पतंग चगाकर खास तरह से मनाते है, लोग आसमान में रंगबेरंगी पतंग उड़ाते है और इस मौसम का आनंद लेते है, कई जगह पतंगबाजी की स्पर्धा भी ररखी जाती है.

मकर संक्रांति शुभकामना संदेश हिंदी में : Makar Sankranti 2023

हमारा मन भी इस उड़ते पतंग की तरह है,
जिस दिन डोर टूटी उस दिन जीवन बिखर जायेगा…©

जब तक पतंग की डोर अपने हाथ में है,
तब तक हम जैसे चाहे उड़ा शकते है,
जब वो कट जाती है तब हमारा नियंत्रण नहीं रहेता,
ये जीवन का भी वैसा ही है..

में एक पतंग हु जिसकी डोर तुम्हारे हाथ मे है,
जैसे चाहो वैसे अपना नियंत्रण रख शकते हो…
Makar Sankranti 2023

तिल और गुड़ के लड्डू बनाओ,
खूब सारा पकवान खाओ,
ठंड में अच्छी सी सेहत बनाओ,
गाय माता को चारा डालो,
इस जन्म के पुण्य कमाओ…

रंगबिरंगी पतंगबाजी चली आकाश में,
उत्तरायण ढेर सारी खुशियां लाई…

अपना भी एक कर्तव्य तो बनता हैं,
सुबह और शाम पंछी गुमते है आकाश में,
उस समय हम पतंग न उड़ाए,
उनको मुक्त होकर विहार करने दे…
Makar Sankranti 2023

जिंदगी के पतंग की डोर इतनी कच्ची भी मत रखो,
की कोई हवा की तरह आके काट कर चला जाये…

सुनों, मैंने अपनी ख्वाइशों की पतंग उड़ा दी है,
तुम डोर बनकर मेरी उम्मीदों को उड़ान देना…

हौसला है इन हवाओं का,
की मेरी जिंदगी की पतंग को,
तेरे इश्क़ के धागों में पिरोकर,
इन आसमानों में निखर जाऊ…

में हवा की तरह हु जो पतंग को भी ऊपर ले जाये,
तुम माँजे की तरह रहेना और ढील देते रहेना…
Makar Sankranti 2023

गुड़ सी मिठाश रहे आपके रिश्ते में,
पतंग और मांझे की तरह जुड़े रहे एकदूसरे से…

काट ना सके आपके पतंग को,
जुड़ा रहे आपका रिश्ता डोर की तरह,
विश्वास का मांझा मजबूत रहे इस तरह,
छुलो कामयाबी आसमान की पतंग की तरह…

उत्तरायण स्टेटस | मकर संक्राति स्टेट्स | पतंग पर शायरी

रंगबिरंगे पतंग की तरह,
आसमानों में चमकते रहो,
जुड़े रहो मांझे की तरह एकदूसरे से,
आपको मकरसंक्रांति की शुभकामनाएं
Makar Sankranti 2023

मीठे गुड़ में तिल मिल जाये,
तो बन जाये स्वादिष्ट लड्डू,
पतंग और डोर मिल जाये,
तो छूले आसमान की बुलंदियां,
भरोसा और प्यार मिल जाये,
तो रिश्ता युही बरकरार रहेगा हमेंशा…

खुशियों की बहार आई है,
तिल और गुड़ के लड्डू खाने का त्यौहार आया है,
चलो पतंग और धागे की तरह बंध जाए,
बुझे रिश्तों में फिरसे एक नया उमंग भरते है…

सपनों को लेकर मन में,
उड़ाएंगे पतंग आसमान में,
ऐसी भरेगी उड़ान जो भर देगी जीवन में खुशियों की तरंग,
हैप्पी मकर संक्रांति।
Happy Makar Sankranti.

इस साल की “मकर संक्रांति,
आपके लिए तिल-गुल जैसी मीठी,
और ‘पतंग’ जैसी,
ऊँची उड़ान लाए,
हैप्पी मकर संक्रांति।
Makar Sankranti 2023

click here : पतंग पर शायरी

पल पल सुनहरे फूल खिले,
कभी न हो काँटों का सामना,
जिंदगी आपकी खुशियो से भरी रहे,
संक्रांति पर हमारी यही शुभकामना।
Happy Makar Sankranti.

Happy Makar Sankranti 2023 Wishes
तिल हम है, और गुल आप,
मिठाई हम है, और मिठास आप,
साल के पहले त्यौहार से,
हो रही आज शुरुवात,
आप को हमारी तरफ से,
हैप्पी मकर संक्रांति।
Makar Sankranti 2023

खुशियों की आई हैं बहार,
पतंग उडाने का चढ़ा हैं खुमार,
तिल के लड्डू की हैं मिठास,
आपको मुबारक हो संक्रांति का त्योहार।

मीठी बोली, मीठी जुबान,
मकर संक्रांति पर यही है पैगाम,
मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं।

पतंगों की तरह आकाश में बुलंदी पायें औरअपनी मेहनत की,
डोर से उस बुलंदी को संभाल कर रखें,
सूरज की पहली किरण के साथ,
आपको मकर संक्रान्ति की हार्दिक शुभकामनाएं।

तन में मस्ती, मन में उमंग,
चलो आकाश में डाले रंग,
हो जाये सब संग संग,
उडाए पतंग,
हैप्पी मकर संक्रान्ति।

हर पतंग जानती है,
अंत में कचरे में जाना है,
लेकिन उससे पहले हमें,
आसमान छूकर दिखाना है।
Happy Makar Sankranti

ऐसे ही मजेदार शायरियाँ को हररोज पाने के लिए हमारे इंस्टाग्राम और फेसबुक पेज पर फॉलो जरूर करें।

Scroll to Top